Chapter-11 भुगतान शेष

भुगतान शेष :- एक देश का भुगतान शेष देश के निवासियों के बीच सभी आर्थिक सौदों का कर्म बद्ध लेखा है I   भुगतान शेष की मदे :- वस्तुओ का आयात तथा निर्यात सेवाओ का आयात तथा निर्यात पूंजी अंतरण Read More …

Chapter-10 विदेशी विनिमय दर

विदेशी विनिमय दर उस दर को कहते है जिस पर किसी देश की करेंसी की एक इकाई के बदले देश की कितनी मुद्रा इकाई मिल सकती है I S = 60 रु   विनिमय दर की प्रणाली स्थिर विनिमय दर Read More …

Chapter-9 सरकारी बजट

बजट एक लेखा वर्ष में सरकार की अनुमानिक आय तथा व्यय का ब्यौरा बजट कहलाता है I   लेखा वर्ष = 1 अप्रैल से 31 मार्च   सरकारी बजट के उदेश्य GDP का व्रद्धी की ऊँची दर संसाधनों का पुनः Read More …

Chapter-8 पूर्ण रोजगार संतुलन

पूर्ण रोजगार संतुलन (full employment equilibrium ) इससे अभिप्राय अर्थव्यवस्था की उस स्थिति से है जब संसाधनो के पूर्ण उपयोग के साथ AS = AD (अथवा s = I) होता है अतः अत्ढ़ व्यवस्था में कोई अतिरिक्त क्षमता या बेरोजगारी Read More …

Chapter-7 अल्पकालीन संतुलन उत्पादन

संतुलन उत्पादन की अवधारणा :- आय तथा उत्पादन संतुलन से अभिप्राय उत्पादन तथा आय के उस स्तर से है जिस पर समग्र मांग समग्र पूर्ति के होती है I AS = AD   समग्र पूर्ति :- से अभिप्राय अर्थव्यवस्था में Read More …

Chapter-6 समग्र मांग तथा उसके घटक

समग्र मांग से अभिप्राय एक लेखा वर्ष के दौरान देश में उत्पादित वस्तुओ तथा सेवाओ पर किए जाने वाले व्यय के कुल जोड़ से है I   समस्त मांग के घटक निजी अंतिम उपभोग व्यय सरकारी अंतिम उपभोग व्यय निजी Read More …

Chapter-5 बैंकिंग: वाणिज्य बैंक तथा केन्द्रीय बैंक

वाणिज्यिक बैंक वाणिज्यिक बैंक वह वित्तीय संस्था है जो लोगो के रू को जो अपने पास जमा के रूप में स्वीकार करती है उनको उपभोग तथा निवेश के लिए ऋण देती है I   वाणिज्यिक बैंक के कार्य   जमा Read More …

Chapter-4 मुद्रा

वस्तु विनिमय प्रणाली   इससे अभिप्राय उस प्रणाली से है जिसमे वस्तु का वस्तु से विनिमय किया जाता है अर्थात एक वस्तु प्राप्त करने के लिए दूसरी वस्तु दी जाती है I   वस्तु विनिमय प्रणाली की कठिनाइयाँ :- आवश्यकता Read More …