Chapter-13 बाजार संतुलन

11th Hindi Medium, 12th Hindi Medium
बाजार संतुलन बाजार उस समय संतुलन की स्थिति में होता है जब बाजार मांग, बाजार पूर्ति के बराबर होता है I   संतुलन कीमत संतुलन कीमत वह कीमत है जहाँ बाजार मांग व पूर्ति बराबर होती है I   संतुलन मात्रा संतुलन मात्रा, संतुलन कीमत के अनुरूप होती है I   बाजार मांग इससे अभिप्राय किसी वस्तु के लिए मांग के उस कुल जोड़ से है जो बाजार में सभी करतो द्वारा की जाती है I   बाजार पूर्ति इससे अभिप्राय किसी वस्तु के पूर्ति के उस कुल जोड़ से है जो बाजार में सभी फर्मे बेचने के लिए तैयार है I   पूर्ण प्रतियोगिता में बाजार संतुलन पूर्ण प्रतियोगिता में बाजार में संतुलन तब स्थापित होता है जब बाजार मांग बाजार पूर्ति के बराबर हो I   संतुलन कीमत…
Read More

Chapter-12 बाजार

11th Hindi Medium, 12th Hindi Medium
बाजार क्या है ? बाजार से अभिप्राय उस सयंत्र या अवस्था से है I जिसके द्वारा वस्तुओ और सेवाओ की बिक्री एवं खरीद के लिए करतो और विक्रेताओ के बीच का सम्पर्क सुविधाजनक जाते है I   बाजार के रूप... बाजार में प्रतियोगिता की मात्रा या फर्मो की संख्या (जो किसी विशेष वस्तु की बिक्री में लगे होते है के आधार पर बाजार की निम्न में से किसी भी रूप में व्याख्या की जाती है :- पूर्ण प्रतियोगिता बाजार एकाधिकार एकाधिकार प्रतियोगिता अल्पाधिकार   पूर्ण प्रतियोगिता बाजार : वह रूप जिसमे करतो तथा विक्रेताओ की बड़ी संख्या होती है समरूप वस्तुओ को बेचा जाता है था फर्मो का स्वतंत्र प्रवेश व छोड़ना होता है I   पूर्ण प्रतियोगिता की विशेषताएं किसी वस्तु के छोटे करतो और विक्रेताओ की बड़ी एक…
Read More

Chapter-11 पूर्ति का सिद्दांत

11th Hindi Medium, 12th Hindi Medium
पूर्ति किसी वस्तु की पूर्ति से अभिप्राय वस्तु की उन मात्राओ से है जिसे उत्पादक वस्तु की विभिन्न सम्भव कीमतों पर एक निश्चित समय पर बेचने के लिए तैयार है I   पूर्ति की गई मात्रा पूर्ति की मात्रा से अभिप्राय वस्तु की उस विशिष्ट मात्रा से है I जो उत्पादक वस्तु की एक विशिष्ट कीमत पर बेचने के लिए तैयार है I   पूर्ति तालिका पूर्ति तालिका वः तालिका है जो किसी वस्तु की विभिन्न सम्भव कीमतों पर बिक्री के लियर प्रस्तुत की जाने वाली उस वस्तु की विभिन्न मात्रा को प्रकट करती है I इसके दो प्रकार है I व्यक्तिगत पूर्ति तालिका बाजार पूर्ति तालिका   पूर्ति वक्र पूर्ति वक्र पूर्ति वक्र पूर्ति तालिका का रेखाचित्रीय प्रस्तुतिकरण है जो किसी वस्तु की विभिन्न सम्भव कीमतों पर बिक्री के…
Read More

Chapter-10 उत्पादक का संतुलन

11th Hindi Medium, 12th Hindi Medium
उत्पादक का संतुलन एक उत्पादक उस समय संतुलन में होगा जब उसे अधिकतम लाभ तथा न्यूनतम हानि प्राप्त हो I   असामान्य लाभ आसामान्यलाभ फर्म वः स्थिति है जिसमे फर्म का कुल आगम, कुल लागत से अधिक होता है I   सामान्य लाभ सामान्य लाभ वः स्थिति है जिसमे फर्म का कुल आगम तथा कुल लागत बराबर होती है I   हानि एक फर्म को हानि तब प्राप्त होती है जब फर्म का कुल आगम, कुल लागत से कम होता है I   उत्पादक संतुलन के दृष्टिकोण कुल आगम, कुल लागत दृष्टिकोण (TR, TC Approches) सीमांत आगम तथा सीमांत लागत दृष्टिकोण (MR, MC. Approches)   सीमांत आगम, सीमांत लागत दृष्टिकोण :- इस दृष्टिकोण के अनुसार एक उत्पादक उस समय संतुलन की स्थिति में होगा जब वः निम्न शर्तो को पूरा…
Read More

Chapter-9 सम्प्राप्ति आय

11th Hindi Medium, 12th Hindi Medium
सम्प्राप्ति किसी वस्तु की बिक्री करने से एक फर्म को जो कुल रकम प्राप्त होती हैउसे फर्म की सम्प्राप्ति कहते है I   कुल आगम एक फर्म की कुल मौद्रिक प्राप्तियां जो एक दिए हुए उत्पाद में बेचकर प्राप्त होती है I   सीमांत आगत   सीमांत आगम कुल आगम में होने वाला परिवर्तन है जब किसी वस्तु किअधिक इकाई बेचीं जाती है अर्थात किसी वस्तु की अतिरिक्त इकाई की बिक्री से प्राप्त आगत सीमांत आगत है I   औसत आगम औसत आगम से अभिप्राय है उत्पादन की बिक्री से प्राप्त सम्प्राप्ति से है I   कुल आगत तथा सीमांत आगम में सम्बन्ध जब TR स्थित दर पर बढ़ता है जो मर स्थित होना चाहिए I जब TR घटती दर पर बढ़ता है तो MR कम होना चाहिए I  …
Read More

Chapter-8 लागत

11th Hindi Medium, 12th Hindi Medium
लागत किसी वस्तु के उत्पादन प्रक्रिया के दौरान हुए खर्चे को लागत कहते है I इसके दो प्रकार है :- स्पष्ट लागत निहित लागत   विक्रय लागत किसी भी वस्तु की विक्री को बढ़ाने के लिए उत्पादक द्वारा विज्ञापन पर किया गया खर्च I   उत्पादन लागत किसी वस्तु के उत्पादन के दौरान होने वाले खर्चे को उत्पादन लागत कहते है I   अल्पकालीन लागते :- स्थिर लागत परिवर्तित लागत   औसत लागत उत्पादन की प्रति इकाई औसत लागत कहते है I   औसत बंधी लागत औसत बंधी लागत उत्पादन की प्रति इकाई बंधी लागत है I   औसत परिवर्ती लागत औसत परिवर्ती लागत उत्पादन की प्रति इकाई परिवर्ती लागत है I   सीमांत लागत किसी वस्तु की अतिरिक्त इकाई का उत्पादन करने में जो कुल लागत में अंतर आता…
Read More

Chpter-7 उत्पादन फलं और एक साधन के प्रतिफल

11th Hindi Medium, 12th Hindi Medium
उत्पादन फलन: इससे अभिप्राय भोतिक आगतो (साधन) तथा भोतिक निर्गतो (उत्पादन ) के बीच पाए जाने वाले सम्बंध से है I   अल्पकाल यह समय की वह अवधि है जिसमे एक साधन परिवर्तनशील तथा बाकि सभी स्थिर होते हैं I   दीर्घकाल यह समय की वह अवधि है जिसमे सभी साधन परिवर्तनशील होते हैं I   साधनों के प्रकार:- साधन दो प्रकार के होते है :- (i) स्थिर साधन (ii) परिवर्ती साधन   कुल उत्पादन परिवर्ती साधनों की सभी इकाइयो का प्रयोग करने से जो उत्पादन होता है उसे कुल उत्पादन (TP) कहते है I   सीमांत उत्पादन (MP) इससे अभिप्राय कुल उत्पादन में परिवर्तन से है जब परिवर्ती साधन की एक अतिरिक्त इकाई का प्रयोग करने से कुल उत्पादन में जो परिवर्तन अत है उसे सीमांत उत्पादन कहते है…
Read More

Chapter-6 मांग की कीमत लोच

11th Hindi Medium, 12th Hindi Medium
 मांग की लोच मांग की लोच से अभिप्राय “किसी वस्तु की कीमत उपभोक्ता की आय तथा सम्बन्धित वस्तु की कीमत में परिवर्तन से मांग में जो परिवर्तन होता है इसे मांग की लोच कहते हैं I   मांग की लोच की विधियाँ कुल व्यय विधि प्रतिशत विधि ज्यामितीय विधि   मांग की लोच की श्रेणियां :- इकाई से अधिक लोचदार मांग :- एक वः स्थिति है जिसमे कीमत में परिवर्तन होने के फलस्वरूप वस्तु कि मांग में इतना परिवर्तन होता है की कीमत के कम होने पर वस्तु पर किया जाने वाला व्यय बढ़ जाता है तथा कीमत के बढने पर कुल व्यय कम हो जाता है I   इकाई से कम लोचदार मांग :- वह स्थिति है जिसमे वस्तु की कीमत में परिवर्तन के फलस्वरूप वस्तु की मांग में…
Read More